வாட்ஸ்ஆப் பயன்படுத்துபவரா.? அப்ப கொஞ்சம் உஷாராக இருங்க., இல்லனா மொத்தமா போய்டும்.! புதிய ஆபத்து.?

வாட்ஸஅப்பில் ஏஜென்ட் ஸ்மித் என்ற பெயரில் வைரஸ் வேகமாக பரவி வருகிறது. மேலும் இந்த ஏஜென்ட் ஸ்மித் வைரஸ் இந்தியாவில் 1.5 ஸ்மார்ட்போன்களில் பெரும் பாதிப்பை ஏற்படுத்தியுள்ளதாக[…]

பாட திட்டத்தில் திருக்குறள்.. ராஜ ராஜ சோழனுக்கு சிலை.. அரசு அறிவிப்பு! எந்த நாட்டில் தெரியுமா?

உலக பொதுமறையாம் திருக்குறளுக்கு எத்தனையோ சிறப்புகள் உண்டு. உலகம் முழுவதும் அங்கிகரிக்கப்பட்டு உலகின் அதிகப்படியான மொழிகளில் மொழிபெயர்கப்பட்ட ஒரு இலக்கியம் திருக்கறள். இதில் கூறப்பட்டிருக்கும் கருத்துக்கள் எந்த[…]

ಕರಾವಳಿಯಲ್ಲಿ ಚುರುಕಾಗದ ಮಳೆ: ಜಿಲ್ಲಾಡಳಿತದಿಂದ ‘ರೆಡ್ ಅಲರ್ಟ್’ ಘೋಷಣೆ!

ನಿನ್ನೆ ಹವಾಮಾನ ಇಲಾಖೆ ಭಾರೀ ಮಳೆಯಾಗುವ ಮುನ್ಸೂಚನೆ ನೀಡಿದ ಹಿನ್ನೆಲೆ ಮಂಗಳೂರು ಜಿಲ್ಲೆಯ ಶಾಲಾ-ಕಾಲೇಜುಗಳಿಗೆ ರಜೆ ಘೋಷಿಸಲಾಗಿತ್ತು. ಆದರೆ ಕರಾವಳಿಯ ಭಾಗದಲ್ಲಿ ನಿರೀಕ್ಷೆಯಷ್ಟು ಮಳೆಯಾಗಿಲ್ಲ. ಹವಾಮಾನ ಇಲಾಖೆ[…]

পা দিয়ে মেট্রো থামাতে গিয়ে বিপাকে মহিলা, পরের ঘটনা আরও ভয়ানক

কলকাতায় মেট্রো দুর্ঘটনায় প্রাণ গিয়েছে এক ব্যক্তি৷ সেই নিয়ে সরগরম রাজ্যনীতি৷ তার মধ্যই সামনে এল এমন ঘটনা যাতে আবার ট্রেন[…]

শহরের অলিতে গলিতে বাড়ছে “অভাব”, আছে কি এর থেকে বেরনোর পথ ?

বাংলায় একটা প্রবাদ বাক্য আছে, বাঙালি যেটা আজ ভাবে দেশ সেটা কাল। তবে এক্ষেত্রে বাঙালিদের পিছনে ফেলে অনেকটা এগিয়ে গেছে[…]

ఫేస్ యాప్ “FaceApp”వాడుతున్నారా?ఐతే జాగ్రత్త…!!

ఫేస్ యాప్ ఆర్టిఫిషియల్ ఇంటెలిజెన్స్‌తో పనిచేస్తుంది. ఫేస్ యాప్ ఆల్గరిథమ్ ఓ ఫోటోను తీసుకొని డీప్ జెనరేటీవ్ కన్వొల్యూషనల్ న్యూరల్ నెట్‌వర్క్స్ ద్వారా మీరు కోరుకున్నట్టుగా ఫోటోను[…]

என்னது இவங்க தமிழ் பொண்ணா?! ‘ராப்’ பாடி அசத்தும் ‘தமிழச்சி’

ஐக்யா என பெற்றோர்கள் சூட்டிய பெயரை ஐக்கி பெர்ரி என்று ஸ்டைலாக மாற்றிக் கொண்ட இந்த ஸ்டைலிஷ் தமிழச்சி, தஞ்சை பெண் என்று யாரும் சொன்னாலும் நம்ப[…]

সপ্তাহের শেষে দিঘায় বড় দুর্ঘটনা! বাড়ছে আশঙ্কা

সপ্তাহের শেষে দিঘায় এমনিতে ভিড় থাকে দিঘায়। কিন্তু প্রবল জলোচ্ছাসের জেরে মৃত্যু হল এক পর্যটকের। দু দু’টি দুর্ঘটনায় তাল কাটল[…]

कोर्टाने सुनावलेला दंड भरण्यासाठी तो चक्क घेऊन आला 100 किलो चिल्लर

छत्तीसगढच्या जांजगीर-चांपा जिल्ह्यातील एक व्यक्ती शुक्रवारी न्यायालयात ५ पोत्यांमध्ये जवळपास ३३ हजार रुपये घेऊन पोहोचला. पत्नीला पोटगीच्या रूपात हि रक्कम[…]

আর কতবছর ভাসবে কাজিরাঙা ? বাঘ থেকে গন্ডারের দায়িত্ব নেবে কে ?

প্রথম ধাক্কাটা এসেছিল ১৯৮৮ সালে । কাজিরাঙায় ব্যাপক বন্যায় প্রাণ হারিয়েছিল প্রায় ১২০৩টি প্রাণী। প্রত্যেক বছরই বন্যার জলে ভাসছে কাজিরাঙা।[…]